Flood Essay in Hindi – बाढ़ पर निबंध हिंदी में

Flood Essay in Hindi – बाढ़ पर निबंध हिंदी में: बाढ़ प्रकृति का प्रकोप या अभिशाप है। प्रकृति की पावन गोद में वास करने वाला राष्ट्र भारत दैवी विपत्तियों का भी शिकार बनता है।

Advertisements

अचानक हैजा, प्लेग, चेचक आदि महामारियों की भाँति बाढ़ भी इसी प्रकार की आपदा है।

पौराणिक कथाओं के आधार पर हम कह सकते हैं कि यह परमात्मा का भेजा हुआ श्राप है। जब पृथ्वी पर पाप बढ़ता है, तो भगवान दैवीय विपत्तियाँ भेजते हैं।

Advertisements

एक ओर उनके विनाश के लिए और दूसरी ओर आलसी लोगों को विलास और पापमय नींद में जगाने के लिए। विशेष परिस्थिति में बाढ़ को प्रकृति का प्रकोप कहा जा सकता है।

Flood Essay in Hindi

Flood Essay in Hindi – बाढ़ पर निबंध हिंदी में

प्रकृति तूफानों और बाढ़ों के माध्यम से हमारे सूखे, निराश, तर्कसंगत मन को वापस पटरी पर लाने की कोशिश करती है। बारिश होती है, बर्फ पिघलती है, नदियों में पानी बढ़ जाता है।

पानी बैंक को तोड़ देता है और हर जगह फैल जाता है। भूमि धंसने लगती है, कृषि बहने लगती है, द्वार बहने लगते हैं। यह बाढ़ है। जब बाढ़ आती है तो चारों तरफ बहता पानी शोर मचाता है।

नदियाँ गरजती हैं, किनारे टूट जाते हैं। लगातार बारिश के कारण प्रलय जैसा दृश्य दिखाई देता है। व्यक्ति और समाज का जीवन कंटकमय हो जाता है।

बिहार बाढ़ पर निबंध हिंदी में

भारत में मुख्यतः केवल एक ही राज्य बाढ़ से हमेशा से विशेष रूप से प्रभावित रहा है और हो रहा है, वह है- बिहार। बाढ़ की समस्या बिहार के लिए सबसे विकट और विकट समस्या है।

बाढ़ की अधिकता के कारण इसे “बाढ़ भूमि” कहा जाने लगा है। यूँ तो बारिश की आँधी के कारण बाढ़ का विनाशकारी मंजर लगभग हर जगह मौजूद है, लेकिन उत्तर बिहार बेसहारा हो जाता है।

गंगा की बाढ़ भी यहां कई वर्षों से प्रतिस्पर्धा कर रही है। मुजफ्फरपुर, चंपारण, बेतिया, सीतामढ़ी, सीवान, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, कटिहार, खगड़िया, भागलपुर आदि जिलों के अधिकार क्षेत्र जलमग्न हो जाते हैं।

लहलहाती फसल बाढ़ से तबाह हो जाती है। धन, जन और पशुओं की असंख्य हानि होती है। यातायात मार्ग प्राय: बंद रहते हैं। बाढ़ के अचानक आने से बचाव मुश्किल हो जाता है।

अकाल का भयानक रूप शुरू हो जाता है। सरकार की तमाम विकास योजनाएं ठप हैं। जब बाढ़ आती है तो हमें उसकी पीड़ा को कम करने और दूर करने का प्रयास करना चाहिए।

गिरे हुए मकानों को खड़ा करना होगा और परित्यक्त गांवों को फिर से बसाना होगा। हमें मानवता के नाम पर बाढ़ की विभीषिका को रोकने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए और बाढ़ पीड़ितों की रक्षा के लिए कमर कस कर आगे आना चाहिए।

बाढ़ पर निबंध हिंदी में

बाढ़ पर निबंध हिंदी में – Flood Essay in Hindi

बाढ़ की बात सुनकर मैं इतने लोगों के साथ बागमती पर बने कालीघाट पुल पर गया और बाढ़ का दृश्य देखा।

वहाँ पहुँच कर देखा तो देखने वालों की भारी भीड़ थी। सरकारी कर्मचारी और पुलिसकर्मी पुरुषों को आगे बढ़ने से रोकने की पूरी कोशिश कर रहे थे। मैं पुल पर खड़ी एक जीप की छत पर खड़ा हो गया।

नदी में पानी बड़ी तेजी से बह रहा था, छप्पर के साथ एक गेंद भी तैर रही थी। उधर मैंने देखा कि एक भैंसा तेजी से तैर रहा था, यह भैंस पानी के बहाव से जिंदा थी क्योंकि वह अभी सिर उठाती थी और तभी कुछ बकरियां भी तैर रही थीं।

वह जिंदा भी था, इसलिए पुल से उसकी धड़कन भी सुनाई दे रही थी। कुछ लोगों ने जान जोखिम में डालकर बड़ा और मजबूत जाल बिछाया था।

नदी गरज रही थी। आसपास खड़े लोगों की आवाजें सुनना मुश्किल हो रहा था। नदी बेरहमी से चेतन और निर्जीव वस्तुओं को निगल रही थी।

बाढ़ की समस्या पर निबंध हिंदी में

पुल से लोगों ने देखा भयानक मंजर। एक महिला बच्चे को गोद में लिए तैर रही थी। लोगों ने उसे बचाने की कोशिश की लेकिन व्यर्थ। बाढ़ से लोगों को काफी नुकसान हुआ है.

बाढ़ के कारण घरों के नष्ट हो जाने से हजारों लोग बेघर हो गए। इतने सारे पुरुष और महिलाएं युवा और बूढ़े बह गए।

इतने सारे लोग गरीब हो गए क्योंकि वे अपने कीमती सामान जो उनके घरों से नष्ट हो गए थे, नहीं निकाल सके।

इस बाढ़ से किसान को काफी नुकसान हो रहा है। वे इस साल बहुत अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे थे लेकिन बाढ़ ने सभी समृद्ध फसलों को बहा दिया।

इतने पेड़ उखड़ गए। इस बाढ़ ने भयानक मंजर पैदा कर दिया। सभी अधिकारियों को मौके पर पहुंचकर इन लोगों की पूरी मदद करने का आदेश दिया गया है।

बीमार या घायल व्यक्तियों को लेने के लिए सरकारी एंबुलेंस वाहन यहां से चल रहे थे। मौके पर चिकित्सकों को भेजा गया जो घायलों का प्राथमिक उपचार कर रहे हैं।

सरकार ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में खाद्य सामग्री भी उपलब्ध कराई। जो इलाके चारों तरफ से पानी से घिरे हुए थे, वहां हवाई जहाजों से खाने के पैकेट गिराए गए.

ऐसे क्षेत्रों के लोगों की मदद के लिए सरकार द्वारा कुछ नावों की भी व्यवस्था की गई थी।

मुख्यमंत्री ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का भी दौरा किया और बाढ़ पीड़ितों को बेहतर सेवाएं देने के लिए विशेष अधिकारियों की नियुक्ति की।

Final Thoughts –

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में आपने बाढ़ पर निबंध हिंदी भाषा में पढ़ा। मुझे पूर्ण विस्वास है की आपको बाढ़ के बारे में दी गयी यह जानकारी जरूर पसंद आयी होगी।

अगर आपको आज का यह आर्टिकल Flood Essay in Hindi – बाढ़ पर निबंध अच्छा लगा हो तो इस Post को आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया (Facebook, WhatsApp इत्यादि) पर भी शेयर अवश्य करे।

आप यह हिंदी निबंध भी पढ़े –

Aatankwad Essay in Hindi – आतंकवाद पर निबंध

Environmental Pollution Essay in Hindi | पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध

Advertisement Essay in Hindi | विज्ञापन पर निबंध

Durga Puja Essay in Hindi | दुर्गा पूजा पर निबंध हिंदी में

Parishram Ka Mahatva in Hindi – परिश्रम का महत्व पर निबंध

Mobile Essay in Hindi | मोबाइल पर निबंध

Tulsidas Essay in Hindi | तुलसीदास पर निबंध

Discipline Essay in Hindi | अनुशासन पर निबंध

Indian Farmer Essay in Hindi Language | भारतीय किसान पर निबंध हिंदी में

Eid Essay in Hindi – ईद पर निबंध

Mother Teresa Essay in Hindi – मदर टेरेसा पर निबंध

Leave a Comment