Harivansh Rai Bachchan Poems Hathi Ke Dant | हाथी के दांत – हरिवंश राय बच्चन की अमर कविता

Harivansh Rai Bachchan Poems Hathi Ke Dant: हाथी के दांत हरिवंश राय बच्चन की एक अमर कविता है, जो हमें शक्ति, साहस और सच्चाई की महिमा को दर्शाती है। इस कविता में हरिवंश राय बच्चन ने एक हाथी के दांत के माध्यम से मनुष्य के समर्पण और वीरता की महत्ता को व्यक्त किया है। यहां हम इस हाथी के दांत कविता के बारे में विस्तृतता से चर्चा करेंगे:

Harivansh Rai Bachchan Poems Hathi Ke Dant | हाथी के दांत – हरिवंश राय बच्चन की अमर कविता
Harivansh Rai Bachchan Poems Hathi Ke Dant | हाथी के दांत – हरिवंश राय बच्चन की अमर कविता

साहस और वीरता:

Advertisements

हाथी के दांत हमें साहस और वीरता की महत्ता को समझाती है। यह कविता हमें बताती है कि हर व्यक्ति के अंदर शक्ति की क्षमता मौजूद होती है और जब वह साहस से काम लेता है, तो उसकी वीरता दुनिया को प्रभावित कर सकती है।

समर्पण की महिमा:

हाथी के दांत हमें समर्पण की महिमा को समझाती है। इस कविता में हमें यह याद दिलाया जाता है कि जब हम अपने कार्यों में पूर्ण समर्पण करते हैं, तो हम सच्चाई और सफलता को प्राप्त कर सकते हैं।

अमरता की कविता:

Advertisements

हाथी के दांत हिंदी साहित्य की अमर कविताओं में से एक है। इसके मध्यम से हरिवंश राय बच्चन ने एक महान और शक्तिशाली प्रतीक के रूप में हाथी के दांत को चुना है। इस कविता की पंक्तियाँ हमें शक्ति और साहस के गुणों का महत्वपूर्ण संदेश देती हैं।

Harivansh Rai Bachchan Poems in Hindi Hathi Ke Dant

Harivansh Rai Bachchan Poems in Hindi Hathi Ke Dant
Harivansh Rai Bachchan Poems in Hindi Hathi Ke Dant

हाथी के दांत कविता

हाथी के दांत, खजाना जबानी।
प्रेमी की प्यास और भूख प्यार की।

संघर्ष में सब कुछ तड़प जाए,
मगर संघर्षी जब अपनी मांग बढ़ाए।

जो जानता हैं उसकी कीमत अद्वितीय,
हैं यह दांत जीवन की विजेता की।

जब तक मनुष्य चलता रहेगा अपनी राह पर,
वही हाथी के दांत उसके दुख को हरेगा।

हाथी के दांत की शक्ति अद्भुत,
सबको अचंभित और आश्चर्यमयी लगती है।

समर्पण के ये दांत उठाएंगे उसे ऊंचाई,
जब वह खड़ा होगा खुद के महिमा के सामरिकाई।

हाथी के दांत, उसका मार्गदर्शक,
जो ले जाए उसे जीवन के ऊँचाई पर।

हरिवंश राय बच्चन की कविता में,
बसती है शक्ति, साहस, और सच्चाई की गहराई

Also read: Harivansh Rai Bachchan Poems – साहित्यिक प्रतिभा में एक अंतर्दृष्टि

Leave a Comment